Saturday, May 16, 2009

कर्तव्य ....... जीवन दर्शन



ये तस्वीर ब्रह्माण्ड शिक्षक कृष्ण अर्जुन के भाव वेग व दुबिधा से उबरने के लिए दरसन कराया था , आज इसी पर लिखना चाहुगा विषय थोडा लम्बा है ,....कर्तव्य को संधि विच्छेद कर ..... करता ........जो कार्य को संम्पन करता है + व्यवहार + व्यक्त ........ किस प्रकार उसे प्रदर्शित करता है , ........... कर्तव्य जीवन की कमाई है , अर्जुन एक योद्धा था , ........

क्रमशः ........