Thursday, November 4, 2010

मदद

मेरे इंटर कालेज में ओउम प्रकाश सिंह सराय नंदन ,दसमी ,खोजवा ,वाराणसी ,और अन्य ने अनायास लकड़ी के सांचे से सर पर मारा ,और बाद में पता न कहा से बन्दूक से मारने वाला था ,मै बच गया इनका भाई ही बन्दूक देकर मारने भेजा था ,मैंने पोलिश को भी लिखा पर कुछ नहीं ,हुआ ,ये लोग न कैसे ,इनका अंत बुरी तरह हो ,ये लोग कभी भी मार सकते है ,बुरे है ,पता न कौन डब्लू है ,ये लोग साथ में सारी हदे पार कर चुके है ...और ताक में है ...



हेल्प मी ....प्लीज़

No comments:

Post a Comment