Friday, March 13, 2009

धर्म

धर्म जिसका तात्पर्य ही अच्छे कार्यो के लिए होता है , किसी भी धर्म को सम्मान उस धर्म को और भी महान बना देता है , दुनिया का कोई भी धर्म जोड़ना सिखाता है , जिस धर्म के जितने मानने वाले उसकी उतनी अहमियत होती है , परन्तु सम्मान जो बनावटी न हो ,पर ही सारी बाते ख़त्म हो जाती है

6 comments:

  1. ब्लोगिंग जगत में स्वागत है ।
    लगातार लिखते रहने के लिए शुभकामनाएं
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    कहानी,लघुकथा एंव लेखों के लिए मेरे दूसरे ब्लोग् पर स्वागत है

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है ,आपके लेखन के लिए मेरी शुभकामनाएं ................

    ReplyDelete
  4. ब्लोगिंग जगत में स्वागत है ।
    लगातार लिखते रहने के लिए शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  5. welcome dost, blog jagat men aapka agman shubh ho.

    ReplyDelete