Monday, April 20, 2009

शतरंज

जैसा की हम जानते है ,यह खेल पूर्ण रूप से मानसीक खेल है ,यह खेल एक राज्य के राजा द्वारा दुसरे राज्य को अधीन बनाने के लिए प्रयुक्त , साधन प्रयोग .आक्रमद करने की विधि व निति निर्धारण पर आधारित होता है इसमे सब ६४ स्थान होते है , १६-१६ क्रमशः सफ़ेद और काले मोहरे होते है एक के बाद एक , दोनों पक्षों को अवसर मिलता है जिसमे आक्रमद और बचाव होता है ,सुरुआत कब्ब्जा से होती है , उदहारण :- ऊंट का प्रयोग टंगड़ी और दौड़ जैसे रेगिस्तान में किया जाता है , चाहे उपयोग या मोहरा को गवाना ....

लेखक ;- अभी सिखते हुए ...

No comments:

Post a Comment