Tuesday, June 28, 2011

धीर -अधीर



भीसन गर्मी पड रही थी ,ताल ,तलैये दलदल बनते जा रहे थे ,गर्मी चरम पर थी इसका सबूत यहाँ -वहा जहा कही चोंच बाये पक्षी दिख जाते थे ,| इसी क्रम में एक तालाब भी सुख गया तथा उसमे रहने वाले मेढ़को का झुण्ड गर्मी से व्याकुल हो उठा ,उन्हें पानी की तलाश थी , उन्होंने अपनी की खोज सुरु की तो एक कुवा मिला सभी गर्मी से व्याकुल थे ,कुवे के पानी में कूद पड़े ,जब उन्हें ठंडक मिली राहत मिली तो बाहर निकलना चाहा पर यह संभव नहीं था ,|वे कुवे के सीमित दायरे में कैद हो चुके थे ,व्याकुल अधीर मेढक कुवे की दीवार से चिपक कर छलांग मारकर निकलना चाहते पर उचाई ज्यादा थी ,इसी क्रम में उचाई से गिरने से ,श्रम ,से और थकान से कई मारे गये, पर एक अनुभवी मेढक कहता हमें अपने सब्र से काम लेना होगा ,धीरज रखना होगा ,वैसे भी ये जगह इतनी ख़राब भी नहीं वह मेढक के साथी कुवे में रहते परन्तु अधीर बार -बार प्रयास में मारे गये , |
एक समय आया बूंदों ने मिट्टी की सोधी महक का आगाज किया ,मेढक खुशी से झूम उठे झमाझम घनघोर बरसात के साथ कुवा पानी से भर गया ,बस एक छलांग सभी धीर मेढक आज़ाद थे ,दुनिया जीत लेने के लिए और सब्र के मीठे फल का गुणगान करने के लिए तब से आज तक पहली बरसात का जश्न ये मेढक टर्रा कर आज भी स्वागत करते है ,| वैसे आज के समय में बरसात में ज्यादा दिन के बाद निकलने पर भोजन के चक्कर में सड़को पर मारे जाते है ,कुछ कई प्रकार के मेढक बहुत जहरीले होते है , ये सापो के प्रिय भोजन होते है ,पर जहरीले मेढ़को को ये छूते तक नहीं , इनकी त्वचा जहरीली होती है ,ये जहरीले मेढक भारत में कम होते है ,विज्ञानं इन्हें उभयचर कहता है ,| यहाँ मै बता दू मेरा दूसरा justice ब्लॉग हैक हो गया था ,सायद हैकर नाम बदलने की कोसिस कर रहा था ,नेट पर has been removed आया तो मेरी हवा ही निकल गयी ,किसी तरह मैंने अपने ब्लॉग को वापस पाया , मैंने एंटी virous से चेक किया तो एक html मिला जो hacker का था , वैसे मै बता दू , कई विशेष वेबसाइट हैक हो चुकी है , वर्तमान में एक टीवी दिखाने वाली वेबसाइट का प्रमाण है ,| मै हिंदी hacker से अनुरोध करुगा की यदि मेरे blogsite को यदि वो हैक करे तो कृपया मेरे लिखे पोस्ट को न मिटाए , | नेट पर कार्य करने के वाले एक दमदार anti virous जरूर रखे ,ज्यादा पैसा न उडाये ,वर्तमान को ध्यान रखे ,सलाह ले |और हां मैंने एंटी कॉपी सेट किया है , फिर भी आप मेरा लिखा कॉपी करना चाहते है , तो एक सॉफ्टवेर आता है , जो सब पर केवल कॉपी करने को ही होता है ,यदि आप फिर भी कॉपी नहीं कर पा रहे तो मुझे कमेन्ट लिखे , मै आप के सम्मान में तुरंत उसे हटा कर सबके लिए anticopy हटा दुगा ,|
अब ऊपर वाला गाना आप पाठको के लिए ...
लेखक ;- बरसाती बादल ..........रविकांत यादव एम् कॉम 2012

No comments:

Post a Comment